banner2 ×
  • info@hpsshergarh.org
  • +91-1668229327, 230327

Celebrated World AIDS Day 2016

​एक्वायर्ड इम्युनो डेफिशियेन्सी सिन्ड्रोम (एड्स) के बारे में आज शायद ही कोई अनभिज्ञ हो। एड्स किस वजह से होता है इसके बारे में अभिनेत्री शबाना आजमी ने विज्ञापन द्वारा जितनी सहजता व खूबसूरती से समझाया है उससे जागरूकता आई है। सरकार और समाजसेवी संस्थाओं द्वारा समय-समय पर विभिन्न तरीऽों से एड्स के लिए जागरूकता अभियान चलाया जाता है पर विडंबना यह है कि लोग जानकर भी अनजान बने हुए हैं। ये शब्द एचपीएस सीनियर सैंकडरी स्कूल के निदेशक एवं प्रिंसीपल आचार्य रमेश सचदेवा ने विद्यालय की ओर से शहर में विभिन्न स्थानों पर लगाए जन जागरका अभियान के तहत झांकियों व पोस्टरों के माध्यम से आज जन मानस को आगह किया।
उन्होने कहा कि एक सच यह भी है कि आज भी हमारे देश में, हमारे शहर में एड्स के चक्रवात में फँसे लोगों की स्थिति बेहतर नहीं है। आखिर इसकी क्या वजह है, स्थिति में कितना सुधार है, किन संस्थाओं द्वारा इस क्षेत्र में कार्य किया जा रहा है इसी पर आधारित रिपोर्ट।
हमारे देश में आज भी जिन्हें एड्स है वे यह बात स्वीकारने से कतराते हैं। इसकी वजह है घर में, समाज में होने वाला भेदभाव। कहीं न कहीं आज भी एचआईवी पॉजीटिव व्यक्तियों के प्रति भेदभाव की व्यक्तियों के प्रति भेदभाव की भावना रखी जाती है। यदि उनके प्रति समानता का व्यवहार किया जाए तो स्थिति और भी सुधर सऽती है।   बात अगर जागरूकता की करें तो लोग जागरूक जरूर हुए हैं इसलिए आज इसके प्रति काउंसलिंग करवाने वालों की संख्या बढ़ी है।  पर यह संख्या शहरी क्षेत्र के और मध्यम व उच्च आय वर्ग के लोगों तक ही सीमित है। निम्न वर्ग के लोगों में अभी भी जानकारी का अभाव है। इसलिए भी इस वर्ग में एचआईवी पॉजीटिव लोगों की संख्या अधिक है।
उन्होंने कहा कि सांझे प्रयास से निदान संभव है। और जागरूकता ही इसका समाधान है क्योंकि इसके मुख्य कारक हैं संक्रमित रक्त, संक्रमित सुई एवं सीरिंज, असुरक्षित यौन संबंध, संक्रमित माँ से शिशु को।
भारत में 50 लाख से अधिक एड्स पीड़ित हैं
अधिकांश रोगी निम्नवर्ग के होते हैं  घर से दूर रहने वाले लोगों में एड्स का खतरा बढ़ जाता है
अक्सर आंकडों से यह पाया गया है कि नशे के लिए सुइयों की सांझेदारी कर भी दावत दी जाती है एड्स को।
इस जागरूकता अभियान में विशेषकर सातवीं कक्षा के तृप्त सचदेवा, खुशाल, तुषार शर्मा, निखिल धौलपुरिया, रोहित, सन्नी, महकप्रीत सिंह भाटी, विनय कुमार सुथार, अजयपाल सिंह भाटी, आठवीं कक्षा से युवराज, रीतिक, हर्ष मोंगा, अभिषेक, ब्रिजेश कुमार, साजन, एकान्त सुथार, अमन, विरेन्द्र सिंह, खुषदीप सिंह, कुलवीर सिंह, दसवीं कक्षा से हरप्रीत सिंह, रकावीर सिंह, लोकेन्द्र सिंह, रोबिन, अनुज, सुखप्रीत, सतवींद्र सिंह, विजयदीप सिंह, रविन्द्र सिंह, गौतम, अंष, ईषांत, जम्मी, हर्ष रूपल। इसऽे साथ ही कला शिक्षक प्रदीप कुमार व गुरशरण सिंह ने भी इस अभियान के लिए विद्यार्थियों को प्रशिक्षित किया।

15327360_1227737127296620_8931044953107576319_n 5-300-250 img_20161201_144643 img_20161201_144451 6 5 dscn85983

Got Something To Say:

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*